हमारे बारे में

   

 

विभाग के संगठन, कार्यों और कर्तव्यों का विवरण 
पृष्ठभूमि
दिनांक: 27-10-2006 से पूर्व संसदीय कार्य विभाग राज्य के न्याय सचिव शाखा का एक अंग था। संसदीय कार्य विभाग राज्य का एक सर्वाधिक महत्वपूर्ण विभाग है जिसका कार्य प्रदेश के विधान मण्डल से संबंधित कार्यों का निस्तारण करना है। संसदीय कार्य विभाग को दिनांक 27-10-2006 को न्याय विभाग से पृथक कर दिया गया और वर्तमान में यह विभाग स्वतंत्र रूप से कार्य कर रहा है।.

संसदीय कार्य विभाग द्वारा विधान मण्डल से संबंधित कार्यों को निष्पादित किया जाता है यथा-विधान मण्डल सत्र आहूत करना, सत्र का कार्यक्रम निर्धारित करना, महामहिम श्री राज्यपाल का अभिभाषण तैयार किया जाना, विधेयको को सदन में प्रस्तुत किया जाना, सांविधिक नियम, विनियम, अधिसूचनाएँ, आदेश, प्रतिवेदन आदि को तथा विधान सभा के नियम-301, विधान परिषद के नियम-115 के अन्तर्गत प्राप्त सूचनाओं पर कृत कार्यवाही को सदन में प्रस्तुत करना, मा० जनप्रतिनिधियों के प्रति शिष्टाचार संबंधी आदेशों को जारी करना, विधान मण्डल सत्र के अवसान का निर्णय लिया जाना एवं इसके अतिरिक्त विधान मण्डल से संबंधित विविध कार्य सम्मिलित है।